Friday, 28 June 2019

Effects of Quite Smoking | सिगरेट छोड़ने के बाद क्या होता है


Hello Friends मै हु Appu , हल ही में एक रिपोर्ट के अनुसार Tobacco Epidemic दुनिया का सबसे बड़ा पब्लिक हेल्थ रेट है।

World Health Organzation अनुसार दुनिया में लगभग 1.3 Billion Active Smokers है। अगर में कहु की स्मोकिंग आपके सेहत के लिये हानिकारक है , तोह यह कोई नयी बात नहीं होगी। वही घिसा पीटा फैक्ट , जो हर Cigarette के पैकेट पर चिपकाया जाता है। Government द्वारा Compulsary Stratuatory Warnings के कारन।

लेकिन फ्रेंड्स ये Cigarette के Addiction से भरी इस दुनिया में जहा मुकेश को हर मूवी से पहले अपनी दुखद दास्तान सुनाने पड़ती है, आखिर कोई इंसान कैसे इससे छुटकारा पाये।
 

आप एकबार सिर्फ बैज्ञानिक दृष्टि कौन से इस पर नजर डालकर तो देखो। आपको वह सही नॉलेज मिलेगा जो आपका काम एकदम आसान कर देगा। क्योंकि आपको पता रहेगा कि सिगरेट के ना मिलने पर इंसान कैसे रियेक्ट करता है। और आप पहले से ही तैयार रहोगे।

और यह पोस्ट को बिल्कुल अंत तक पढ़ना, क्यू की अंत में मैं आपको एक ऐसी बात बताने वाला हूं जीससे आपकी सिगरेट की आदत नहीं छूटेगी बल की जिंदगी बदल जाएगी। और आप खुद ही हैरान रह जाओगे कि ऐसा हुआ कैसे।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

चलिये शुरू करते है -साउथ अफ्रीका के Sicratist, Michale Russel के कहने के हिसाब अनुसार Smoking के मैन Addictive Substance है Nicotene जो एक स्मोकर के माइंड रिलैक्स करता है। और वह असल में उतना हानिकारक नहीं होता जितना की उसे डेलिवर करने का माध्यम।

कॉफी में पाया जाने वाला कंपाउंड Caffeine जो मेन्टल Alertness को बढ़ाता है वह भी उतना ही Addictive हो सकता है। लेकिन हम तो रोज उसे पीते हैं बिना किसी प्रॉब्लम के।

फर्क सिर्फ इतना है की कॉफी को बॉईल करना पड़ता है जिससे कैफीन रिलीज़ होता है , और सिगरेट को जलाकर जिससे निकोटिन रिलीज़ होता है और यही खतरनाक प्रक्रिया स्मोकिंग, लगभग 5000 से भी ज्यादा Toxins दूसरे Addictives और Harmfull गैसेस रिलीज़ करती है।

जिसमे Tar यानि Tarkol जैसे काले पदार्थ भी उत्पन्न होता है। यही कुछ समय बाद पुरे शरीर में अपना असर दिखाती है और शरीर को नुकसान पहुँचाता है। लेकिन आपको जानकर आश्च्यर्य होगा की स्मोकिंग छोड़ने का लाभ Cigarette छोड़े सिर्फ 20 मिनट में ही शुरू हो जाता है।

इन 20 मिनट में ही आपका ब्लड प्रेशर और हर्ट बीट्स नार्मल हो जाते है। वह इसलिये की Cigarette के मैन केमिकल निकोटीन आपके दिमाग में

Epinephrine or Norepinephrine नाम के NuroTransmeter Release कराता है। जो हार्ट रेट्स को इनक्रीस करते है और यहां तक की आपके रक्त कोषिकाओं को Naro भी कर सकते है।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

जब शरीर को Nicotene Cravings आने लगते है और जिसको आप Withdrawl Symtoms भी कहते हो। यहाँ पर आपको मूड स्विंग्स , ड्रावसिनेस्स यानि कमज़ोरी और बेहोसी जैसी फिल्लिंग्स स्ट्रेस और सोने में डिफीकल्टी और यहाँ तक डिप्रेशन्स भी आना नार्मल है।

Nicotene की वजह से आपका दिमाग ज़यादा मात्रा में डोपेमीन रिलीज़ करता था। जो केमिकल आपको रिलैक्स और अच्छा फील कराता था , और इसी मुख्य Nurotransmeter, Dopemin के मूड सुधरने वाले इफ़ेक्ट के आप आदि बन चुके थे।

लेकिन ये अब ज़यादा मात्रा में उत्पन्न नहीं हो रहा है , और इसीलिए Withdrawl Symtoms का आना नैचरल है। तोह चिंता करनेके वजह उसे टॉलरेट करना ज़यादा इम्पोर्टेन्ट है।
8 घंटे बाद जो पॉइज़नस कार्बोन मोनोऑक्सीडे गैस इन्हाेल किया जाता है Cigarettes के साथ, ब्लड स्ट्रीम से क्लियर हो जाता है। जिससे ब्लड में ऑक्सीजन की मात्रा भी नार्मल हो जाता है। इससे ब्लड की ऑक्सीजन कैरिंग कैपेसिटी दोबारा बढ़ जाती है।

हैवी स्मोकर्स में अधिक कार्बोन मोनो ऑक्साइड के वजह से ब्लड सेल्स की आकर भी बढ़ जाता है। जो की कारन बनता है खून के गाढ़ा हो जाने का , जिससे ब्लड प्रेशर और ब्लड क्लॉट्स की सम्भाबना ज़यादा हो जाती है। और बिलकुल यही क्लॉट्स दिल और दिमाग के लिये घातक भी साबित हो सकती है।

लेकिन क्यूकी हमारी बॉडी एक लिविंग इंजन है , शरीर 24 घंटे के बाद उसे बहार निकालने के प्रक्रिया शुरू करदेगा जैसे जोर जोर से खाँसना।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

बॉडी के नैचरल रिस्पांस है लंग्स के अंदर के टॉक्सिन्स को बहार निकलने के लिये। 48 घंटे बाद हमारे बॉडी के डैमेज हुए रक्त कोषिकायें और नर्व लाइनस रिग्रो होना शुरू हो जाते हैं। टेस्ट बट्स में भी सेंसेशन एक बार और लौट आता हे , जिससे खाना और भी ज्यादा टेस्टी लगता है।

और इसी समय डोपेमिन की लेवल एकदमसे ड्राप होने की वजह से लगभग 72 घंटे बाद निकोटीन्स क्रेविंग एकदम पिक पर आजाता है। सिम्टम्पस जैसे चक्कर आना, उल्टी आना एकदम नैचरल है।

आपका बॉडी Crave करने लगेगा एक सिगरेट के लिये ,लेकिन फ्रेंडस अगर यह कुछ हफ्तों का तूफान अपने झेल लिया तोह ये समझिये की आगे का रास्ता आसान है।

72 घंटे से 1 महीने के समय के बीच आपका शरीर इतना Detoxify हो जाएगा की स्मोकिंग से होनेवाली टाइप 2 डायबिटीज , दिल की बीमारिया और लंग कैंसर की संभावना बिल्कुल कम हो जाती है।

और ये रिजल्ट अंदाज़ा या थिओरी नहीं है, वल्कि रियल एक्सपेरिमेंट और केस स्टडी से मिली जान कारी है।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

लेकिन अब बात करते हैं वह खुफिया चीज के बारे में, जिससे अपने स्मोकिंग की हब्बिट्स यहाँ तक की आप आपने ज़िन्दगी भी बदल सकते हो। सबसे बड़ी गलती जो एक स्मोकर करता है वह स्मोकिंग छोड़ते वक्त वह अपने आप को एक स्मोकर समझता है।

एक ऐसा स्मोकर जो स्मोकिंग छोड़ने की कोसिस कर रहा है। यानि स्मोकर होना उसकी पहचान का ही एक हिस्सा है। ये बहोत ही एक गलत माइंड सेट है , क्यू की एसे माइंड सेट से अगर आप स्मोकिंग छोड़ने की कोसिस करोगे तो आपको अपनी पहचान के खिलाफ जाना पड़ेगा।

जो कि आप ज़यादा दिन तक नहीं कर पाओगे और थक के एन्ड में गिव अप मार दोगे। एसा एक हप्ते के बाद हो सक्ता है , एक महीने के बाद हो सक्ता है , और एक साल बाद भी हो सक्ता है।

लेकिन अगर अपने आज से काम स्टार्ट कर दिया है अपनी पहचान बदल ने मे की, मैं एक स्मोकर हूँ ही नहीं। मैं तो कुछ दिनों के लिए टाइम पास कर रहा था। और मैं असल में एक फिटनेस फ्रीक हु जो अपने शरीर को एक मंदिर के रूप में देखता है।
मेरा शरीर ही वह जरिया है जिससे मै इस दुनिया को कुछ दे सकता हु, और लोगोके ज़िंदगिया बदल सकता हु। और अगर मेरा ही शरीर खुद अंदर से खोकला हो तोह मै कैसे किसी और के ज़िन्दगी भर सकू। एसा माइंड सेट रख के अपनी पहचान बदलना आपकी पहला स्टेप है।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

और फिर आपको सोच समझकर एक सिस्टम यानी एक रूटीन बनानी होगी जो आपको दिन भर में एडिक्शन से दूर रखें। अगर आप अपने दिमाग को कहते हो कि आप एक स्मोकर नहीं हो तो आपको उसे एक्शन के जरिए दिखाना भी होगा।

और यहीं पर आपका वह सिस्टम यानि वह रूटीन काम आयेगा। आपको पता होना चाहिये की Cigarettes की तलब लगने की ट्रिगर्स कहा कहा है। और उनको दूसरे एक्टिविटीज से रिप्लेस करना होगा। वह एक्टिविटीज जो आपके नयी पॉजिटिव पहचान को बनाने में मदद करें।

अगर आप हर दोपहर को तीन बजे ऑफिस के ब्रेक टाइम में स्मोक करते हो , तोह आप वह ट्रिगर को पहले समझो। जैसे ही आपका दिमाग देखता है की ये ऑफिस का एनवायरनमेंट है और तीन बज चूका है तोह उसको Cigarettes की तलब लगने लगती है, और इस ट्रिगर को जैसे ही आप महसूस करो आप उसे किसी पॉजिटिव बिहेवियर से काउंटर करो , जैसे आप ये सोच सकते हो की जैसे ही मुझे नेक्स्ट टाइम Cigarette की तलब लगेगी मैं सीधा उसी वक्त 10 पुशअप्स मारूंगा , 5 लंबी सांसे बिल्कुल अपनी पेट से लूंगा और एक ग्लास पानी पी लूंगा और फिर यह करो भी।

हर एक बार जितने भी बार हो सके। ऐसे करते करते आप अपने सारे ट्रिगर्स को नष्ट करो और उन्हें पॉजिटिव बिहेवियर से रिप्लेस करो। और फिर आपका दिमाग यह देखेगा कि यार यह तो स्मोकिंग के जगह हेल्दी लाइफ स्टाइल जीता है।
[आप ये पोस्ट www.thenewswale.com पर पड़ रहे है ]

और यही चीज़ धीरे धीरे आपके पहचान बनने लगेगी ,आपका दिमाग ये बिलीव करने लगेगा कि हां आप एक ऐसे इंसान हो जो अपने शरीर का ख्याल रखता है , और फिर क्या एसा सोचने वाला इंसान कभी Cigarette पि सकता है बिलकुल नहीं ,किया आप अपने लाइफ में बहोत कुछ मिस करोगे अगर आप सिगरेट को अपनी लाइफ से निकाल दो तो, बिल्कुल नहीं आप और ज्यादा स्ट्रांग हो जाओगे मेंटली और फिज़िकली।

एक और बात याद रखना दुनिया में हाई होने की बहोत से Constructive तरीके है , ट्रस्ट मि आपको सिगरेट की जरूरत बिल्कुल नहीं है। बिलकुल इसी तरह लाइफ में बहुत ही चीज होती है जो आपकी माइंडसेट पर निर्भर करति है जो। आपको अगर अपना बिहैवियर चेंज करना है तो आपको सबसे पहले अपने माइंड सेट पर काम करना होगा।

और ये था आजका बोनस टिप , तोह फ्रेंड्स ये पोस्ट पड़ने का बहोत बहोत शुक्रिया।


ये भी पढ़िये - 

1 comment:

Note: only a member of this blog may post a comment.